Thought Of The Day

काश कि आप यह समझ सकते,
कि इस कम्बखत काश से रोजाना कितना लड़ते हैं हम,
किसी ना किसी दिन तो पा ही लेंगे ए मंज़िल तुम्हे,
ठोकरें ज़हर तो नहीं जो खाकर मर जाएंगे हम..!!