ठोकर वही शख्स खाता है. जो रस्ते का पत्थर नहीं उठाता हैं.

ठोकर वही शख्स खाता है.
जो रस्ते का पत्थर नहीं उठाता हैं.