खुली किताब के सफ़्हे उलटते रहते हैं ”हवा चले न चले दिन पलटते रहते है

खुली किताब के सफ़्हे उलटते रहते हैं
”हवा चले न चले दिन पलटते रहते है