दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई जैसे एहसान उतारता है कोई

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई
जैसे एहसान उतारता है कोई