अपना घर छोड़ कर सरहद को अपना ठिकाना बना लिया जान हथेली पर रखकर देश की हिफाजत को अपना धर्म बना लिया

अपना घर छोड़ कर
सरहद को अपना ठिकाना बना लिया
जान हथेली पर रखकर
देश की हिफाजत को अपना धर्म बना लिया